Donate US$10

समाज व उसके परोक्ष मनोवैज्ञानिक विक्रित्यों

समाज व उसके परोक्ष मनोवैज्ञानिक विक्रित्यों का इतिहास मुझे आज कल बहोत दिलचस्प विषय लगाने लग गया है / कहते है इतिहास इस लिए दोहरता है क्यों को मानव-स्वभाव कभी नहीं बदलता है / अगर मानव-मष्तिष्क की कुछ विक्रित्यां भी ज्यों-की-त्यों रह जाती है तो निश्चित है की इतिहास कभी भी नहीं बदलेगा और वह समाज कभी भी नहीं सुधरेगा / मष्तिष्क की विक्रित्यां , अथवा मनोवैज्ञानिक विकारों , पर एक सामाजिक जानकारी अति आवश्यक वस्तु बन गए है / भ्रष्टाचार का एक स्रोत , शासन के लिए बल (सत्ता) का दुरूपयोग (abuse of power ) कई जगह मनोवैज्ञानिक विकार से भी जुड़ा हुआ है / इंसान का व्यक्तित्व भी अंततः उसकी वैचारिक योग्यता का प्रतिबिंब माना जाता है / ऐसी समझ  है की अच्छे विचारों वाले व्यक्तिओं का शारीरिक व चहरे का ताप भी अधिक आकर्षित करने वाल होता है / Emotional Intelligence जैसे विषयों में यह चर्चाएँ आम होती है / अब अच्छी फेस-क्रीम के प्रयोग से उत्पन्न भ्रम इसमें शामिल नहीं है :-P

No comments:

Post a Comment

Featured Post

नौकरशाही की चारित्रिक पहचान क्या होती है?

भले ही आप उन्हें सूट ,टाई और चमकते बूटों  में देख कर चंकचौध हो जाते हो, और उनकी प्रवेश परीक्षा की कठिनता के चलते आप पहले से ही उनके प्रति नत...

Other posts