Donate US$10

राजनीति की भ्रमकारी भाषा

हमारे यहाँ शान्ति की भाषा में भी एक किस्म का भ्रस्टाचार छिपा हुआ है / जब भी किसी विवाद के निष्कर्ष में यह कहा जाता है की "हमे सब को साथ ले कर चलना है , सभी धर्मो, सभी समुदायों, सभी क्षेत्रों को ", हम अपनी संस्कृति में धर्मं और इमानदारी से भी समझौता करना प्रवाहित करवा रहे होते हैं / राष्ट्रीय एकता, शांति, क़ानून-व्यवस्था की आड़ में विपक्ष अगर सत्तारुड पार्टी के  गलत कर्मो को उजागर करना छोड़ देगी तो प्रजातंत्र कैसा चलेगा? कैसे सत्य की तलाश होगी और एक सच्ची एक-मतत्ता से आने वाली शान्ति व्यवस्था प्राप्त होगी / 
पिचले दशकों में पेशे या शिक्षा से वकील राजनीतज्ञों ने देश में अपनी "न्याय" की समझ से इंसान की "निर्णय" की समझ को बहुत अघात किया है / सभी मनुष्यों में बाल्यकाल से ही एक सही , उचित मनोभाव में पालन होने पर एक आत्मा का निवास स्वयं ही होता है / निर्णय के योग्यता उस आत्मा (सेंस ऑफ़ जस्टिस, conscience ) से खुद ही आती है / जिनमे इसका आभाव होता है वह वैज्ञानिक दृष्टि एक "शोशियोपेथ " या फिर "साईंकोपेथ" कहलातें हैं / आगे, अति विक्सित न्याय भी इसी भौतिक न्याय की समझ के धरातल पर क्रमिक विकास करता हुआ आगे बढता है / मगर दर्शन में छिछले, परन्तु विधि ज्ञान में थोड़े "पढ़े लिखे " वकील-राजनीतज्ञों ने कोर्ट की चारदीवारों में न्याय के तरल तदेव क्रमिक-विकासशील स्वाभाव को अलग-अलग दृश्य बिंदु में भेज कर आभास देते हैं की न्याय कितना तरल और असाधारण है / सामान्यतः सभी मुकद्दमे "पब्लिक ट्रायल " होते हैं , मगर ज्यादातर बार मुकद्दमों की बहस और फेसलों की वजह की जानकारी आम जनता में कम ही आती थी / नयी इन्टरनेट प्रेरित व्यवस्था में अब मामले वकीलों की हाथ में नहीं रह गयी है / आज "मीडिया ट्रायल" आम हो गया है / न्याय दृष्टि  में "अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता" में यह कोई गलत विकास नहीं हुआ है / अब 'न्याय ' और 'निर्णय' में भ्रम उत्पन्न  करना आसान नहीं रह गया है / ख़ास तौर पर तब जब मीडिया ट्रायल इन्टरनेट पर मिली जन-प्रकाशन अथवा जन-प्रसारण की क्षमता से ताल मेल रख कर बने तो  /   तो अब वकीलों और राजनीतिज्ञों को न्याय के साथ छेड़-खानी आसान नहीं रह गयी है / अब जा कर कितनो ही राजनीतिज्ञ भ्रम स्पष्टता की ओर, एक नए प्रकाश में आ रहे है और नष्ट हो रहे हैं / शान्ति के व्यक्तव्य में समझौते के सन्देश छिपाना आसान नहीं होगा /

No comments:

Post a Comment

Featured Post

नौकरशाही की चारित्रिक पहचान क्या होती है?

भले ही आप उन्हें सूट ,टाई और चमकते बूटों  में देख कर चंकचौध हो जाते हो, और उनकी प्रवेश परीक्षा की कठिनता के चलते आप पहले से ही उनके प्रति नत...

Other posts