वर्चस्व की जंग में सत्यधर्म से समझौता

कभी कभी वर्चस्व की लड़ाई ऐसे भी करी जाती है की मनुष्य सत्यधर्म का पालन तो करने की इच्छा रखता है, मगर एक सोची समझी रणनीति के अंतर्गत सत्यधर्म को तब तक अस्वीकृत करता रहता है जब तक की वह सत्यधर्म उसके लोगों के मुख वाणी से बोला नहीं जाता है।
   (भई, अगर दुश्मन के मुख से निकले सत्यधर्म को भी यदि आप स्वीकार कर लेंगे, उसका अनुसरण करने लगेंगे तो यह भी अपने आप में आपकी पराजय ही देखी जायेगी ।)
    वर्चस्व की लड़ाई में सत्यधर्म से यह समझौता भी आपने आप में असत्य और दुष्कृता को विजय बना देता हैं।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

नौकरशाही की चारित्रिक पहचान क्या होती है?

भले ही आप उन्हें सूट ,टाई और चमकते बूटों  में देख कर चंकचौध हो जाते हो, और उनकी प्रवेश परीक्षा की कठिनता के चलते आप पहले से ही उनके प्रति नत...

Other posts