Donate US$10

येलो जर्नलिज्म -- एक्सक्लूसिव, विशेष और कैंपेन के पीछे के कूटनीति

अगर टीवी पत्रकारिता में "येलो जर्नलिज्म"(yellow journalism) अपने को समझना है तो इन "एक्सक्लूसिव"(exclusive) और "मोर्चाबंदी /कैंपेन"(campaign) वाले कार्यक्रमों से रची गयी महिमा को समझिये।
   येलो जर्नलिज्म की प्रकृति ही इन आचरण पर सिद्ध होती है की कहाँ टीवी जर्नलिज्म चुप रह जाता है, और कहाँ वह मोर्चाबंदी कर देता है।

[yellow journalism= पैसा और धन के बल पर अपने पक्ष के समाचारों को बढ़ा चढ़ा कर प्रसारित करवाना, और अपने विरोधियों को संतुलित स्थिति से कहीं अधिक बदनाम करवाने वाले समाचार प्रसारित करवाना]

No comments:

Post a Comment

Featured Post

नौकरशाही की चारित्रिक पहचान क्या होती है?

भले ही आप उन्हें सूट ,टाई और चमकते बूटों  में देख कर चंकचौध हो जाते हो, और उनकी प्रवेश परीक्षा की कठिनता के चलते आप पहले से ही उनके प्रति नत...

Other posts