स्वयंसेवक संघ की बदलती धुन की प्रशंसा

राष्ट्रीय स्वयंसवेवक संघ के हाल के एक काम की प्रशंसा तो करनी ही पड़ेगी।  वह यह कि इन लोगों ने यह बात सबसे तीव्रता से पकड़ ली है कि भारत मे जनसंख्या के अनुपात में कहीं अनेक और विविध विचारधाराएं है। और दूसरा यह कि कोई भी विचारधारा इतनी उत्तम और विकसित नही हो पाई है कि देश की एक बहुमत जनसंख्या को यह प्रेरणाप्रद आभास दे सके।

बाकी अन्य खेमे तो आज तक बचकाने दर्शन पर ही जम चुके है, और आज़ादी के 70 सालों बाद भी बस यहीं तक कि बौद्धिक क्षमता रखते है कि "हर आदमी की अपनी-अपनी विचारधारा होती है, हमें सभी की विचारधारा का सम्मान करना चाहिए।" इस बार-बार दोहराए जाने वाले कथन के आगे सभी पार्टियों की बुद्धि समाप्त हो जाती है।

यह शायद आज भी भारत मे बहोत कम लोग समझते हैं कि राष्ट्र निर्माण के लिए तमाम विचारधाराओं में प्रतिस्पर्धा करनी पड़ती है, जिनमे से वह राष्ट्र निर्माण का सूत्र बन सकने योग्य सर्वोत्तम विचारधारा निकालनी पड़ती है जिस पर चलने के लिए समाज के हर इंसान को प्रेरित किया जा सके, जिसे अधिकतर इंसान सहर्ष स्वीकार करने स्वयं उसका अनुसरण कर सकें। 

शायद इसी समझ से संघ ने संघोष्ठियों का एक दौर आरम्भ किया है, जिसके तहत वह तमाम दलों के नेताओं को आमंत्रित करके उन्हें अपने-अपने विचार प्रस्तुत करने का मंच प्रदान करवा रहे है। यह सब बड़ी बात है। आम जनता में कई सारे लोग आज भी विचारधारा के द्वंद को जैसे किसी पहलवानी अखाड़े की लड़ाई समझते हुए तुच्छ राजनीति के आगे निकल कर सत्य के दर्शन करने की बुद्धि नही रखते हैं। वह दल आज भी बस यही प्रचार करते घूम रहे हैं कि "सिर्फ उनका नेता ही अकेले संघ से लड़ाई कर रहा है"।
इसलिए छोटे दल संघ के इस नए प्रयोग को शायद न तो देख पा रहे हैं , और न ही उसकी प्रशंसा करते हुए खुद को तैयार कर पा रहे हैं।

दूसरी और छिपी बात यह भी है कि संघ इन संघोष्ठी सम्मेलनों के दौर में चुपके से अपनी अभी तक कि चलती आ रही विचारधारा रेखा को बदल भी रहा है, या कहे तो "आत्म सुधार कर रहा है"। और भी बेहतर शब्दों में कहें तो "विचारधारा का विकास कर रहा है।"

आप मोहन भागवत के बदले हुए स्वर को शायद समझ सकते हैं। वह मुस्लिम विरोधी "हिंदुत्व" की छवि को बदलने में लग गया है। संघ अब कांग्रेस के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान के दिग्गज नेताओं की तारीफ करने लग गया है। संघ ने अब राष्ट्र ध्वज को स्वीकार करना सीख लिया है, और शायद 'जन गण मन' को राष्ट्रगान के रूप में स्वीकृति भी दे ही देगा। संघ आज़ादी के उपरांत समाज को दिशा देने योग्य सबसे बेहतर संस्था के रूप में ढलने के प्रयासों में लगा हुआ है। इसके लिए वह तमाम लोगों की विचारधारों को सुनने समझने और संग्रह करने में कदम उठाता से लग रहा है। शायद किसी तुलनात्मक अध्ययन के बाद सभी विचारधाराओं के मिश्रण से निर्मित किसी अधिक श्रेष्ठ और प्रेरणाप्रद विचारधारा की तलाश कर रहा है, शोध कर रहा है।

लोक सेवा तंत्र -- समाज के आर्थिक विकास की सबसे बड़ी बाधा

(लेकिन मनीष भाई), मेरे को हाल फिलहाल के अनुभवों से लगने लगा है कि दुनिया भर में जो कुछ उद्योगनागरियों का पतन को हम देखते हैं, उसका वास्तविक कारण वामपंथ नहीं (साम्यवाद , Communism) नही है बल्कि उद्योग और तकनीकी में छिपी विशेषताएं हैं।

वामपंथ एक विशेषण नाम है, जिसका उदगम संसदीय आचरण से निकलता है। संसद में बहुमत गुट अध्यक्ष के दाई आ8र बैठता है, और अल्पमत गुट बाई ओर। बाई साइड को वामहस्त बुलाते है, इसलिए इसलिये यह विशेषण उपनाम है। असल विचारधारा का नाम साम्यवाद है।

साम्यवाद का केंद्रीय विचार तो सारी दुनिया मे ही स्वीकृति किया गया है। वही welfare state के नाम से हर जगह अपनाया गया है। सभी विधानों में, शास्त्रों में , धार्मिक ग्रंथों में - जनकल्याण को ही सर्वोच्च कानून बताया जाता है। public welfare इस the utmost law।

अन्तर तो सिर्फ इसको निर्वाहन में है। प्रजातन्त्र में public welfare के नाम पर private property का गला नही घोटा जाता है, जबकि Communism बहोत उतावला रहता है public welfare के नाम पर private property का गला घोटने से।

दिक्कत है कि हम और आप कुछ पुरानी छवि के चलते वामपंथ को labour यूनियन से जोड़ कर ही देखते रहे हैं , और फिर जैसा कि हुआ है, मिल मालिकों ने अपने मुनाफे के लिए पुरानी तकनीक की मचीनों वाली मिलें बंद करने के बहाने को labour union troubles के मत्थे जड़ कर उनकी छवि कुछ जरूरत से ज्यादा ही खराब कर दी। जबकि सच यह है कि वह मिल मालिक सिर्फ बहाना दूंढ रहे थे अपने मुनाफे को बढ़ाने के लिए अपना धंधा नए उभरते और ज्यादा मुनाफे वाले धंधा जमाने का। मिलों को बंद करके आज वही नए शॉपिंग मॉल के मालिक बन गए हैं, मल्टीप्लेक्स चलाते हैं, सुपरमार्केट और डिपार्टमेंटल स्टोर , फ्रैंचाइज़ चैन रेस्टुरेंट चलाते हैं।

तो कुल लेन देन में छवि साम्यवाद की जरूरत से अधिक खराब ही गयी, ताकि असल करतूत बाज़ बच निकले। मिल मालिकों को उस जमाने मे सरकारी ज़मीन सस्ते में मुहैया हुई थी, ताकि वह कारखाने लगा कर जनता को रोजगार के अवसर दे सके।।फिर जब मचीने पुरानी हुई और नए उद्योगों से मुकाबले में उनका मुनाफा कमा हुआ, तो जमीन हड़पने के लिए मिलों को बंद करके उसके बंद होने का आरोप labour union troubles पर लगवा दिया गया। आगे के लेख, समाचार पत्र, कहानियां, किताबें यूँ ही लिखी गयी और जनता का दर्शन ऐसे ही विकसित हुआ।

जबकि असल कारण छिपा था उद्योगिक क्रांति के नैसर्गिक विचार में ही। कि, नई तकनीक आती ही रहती है, और हर बार पहले वाले को "पुराना" यानी कम मुनाफे का बना कर खुद भी और नई की भेंट चढ़ जाती है।

और रही बात देशों के आर्थिक उत्थान में बांधा की, तो उसका असल कारण साम्यवाद की उस विचार से निकलता है जिसमे कार्य कौशल, मशीन निर्माण, कारखाने और उद्योग का नियंत्रण सरकार नाम की संस्था के पास चला जाता है, बाजए किसी आम , स्वतंतत नागरिक समूह के। साम्यवाद का असली विष है हर सरकारी नियंत्रण अयोग्य व्यक्तियों के द्वारा। और भारत मे यह अंजाम दिया जाता है UPSC (यानी लोक सेवा आयोग) जैसे "संविधानिक संस्थान" के पैर जमा कर।

हो सकता है कि बात सुनने में अटपटी लगे, और समझने में भी समय लगे, मगर समाज को आर्थिक उत्थान से रोकने का सबसे बड़ा अवरोध लोक सेवा आयोग ही है।

अगर किसी को दुनिया भर के विकसित देशों के economic powerhouse बनने के पीछे की इतिहासिक कहानी मालूम होगी तो वह तुरंत समझ जाएगा कि भारत मे क्या अंधेर गर्दी मची हुई है लोक सेवा आयोग के नाम पर। क्योंकि सभी विकसित उद्योगिक अग्रिम देश अपना यह मुकाम अपने professsional skillmen के भरोसे प्राप्त करे हुए हैं, न कि नौकरशाही की बदौलत। नौकरशाही समाज और देश को टैक्स का नाम पर चूसने का एकमात्र कौशल रखती है, और जन कल्याण के नाम पर स्कीम चालू करके उल्लू बनाती रहती है।

Both- the Faith and the Sciences can make the man Ignorant!

The quirky challenge before human mind is to continuously make distinction between what is POSSIBLE and what is FEASIBLE .

In resolving the problem, some people fail more often than the others. And it is those failed people who are called the ignorant ones by those others.

The continuum of POSSIBILITY spreads to infinite , just like how the universe is spread. The boundary of FEASIBILITY is ever shifting , just like how much farther the man-made space craft has travelled till today. People who lose track of the boundary, they become the ignorant ones.

Now , the INFINTE realm of POSSIBILITY exist at both the places - In the Sciences , as well as as the Faith .

So that is the commonality between the Science and the Faith. That , man can fooled and be brought into ignorance using either of the two - the Faith , as well as the Sciences !!

Astonishing, isn't it?👌
That , even the Sciences can make a man ignorant !

Dharmic Faith- the cosmic knowledge of how the same man imbibes the Good and the Evil within him.

When Fighting the evil there is one danger every fighter who stands for the Good must know. Evil has a very cunning power to enter the mind, mentality and body of the fighters of the Good, when the Good starts employing those tactics which are typically evil in themselves.
   In Ramayana, Rama knew about this particular quality of the evil. Hence , immediately after arrowing down Ravan, he asked Laxman to sit  by the leg side of Ravan and apologise the great learner and a great devotee , and all the Good that Ravan had. Ram knew that the Good and the Evil , both live in the same human being . The victory or the defeat of any is only a matter of what the conscitiousness of that human being allows to be promoted in his own self. This is the definition of the Sanatan Dharm , where the Dharm is all about self-identifications of the good and the Evil. There is no good and evil given as a commandment by any supreme being or his prophet. It is all about your own self recognition. Therefore the dharmic faith proceeds to uphold the knowledge and learning as its chief feature. This is why it is called the Vedic religion, meaning the faith of the Knowledge and learning. Knowledge and Learning are the key tools which help a man identify the Good from the Evil. This religion, hence, promoted and held supreme those people in the society who had the knowledge, the cosmic knowledge of how everything , every action connects us to other thing on the continuum of time and space. For example , a person with bad psychology will, (in the continuum of future), suffer a bad consequence. The Vedic culture called it the ''Brahma gyan'', and the people who had it as the ''Brahmins''.

Featured Post

नौकरशाही की चारित्रिक पहचान क्या होती है?

भले ही आप उन्हें सूट ,टाई और चमकते बूटों  में देख कर चंकचौध हो जाते हो, और उनकी प्रवेश परीक्षा की कठिनता के चलते आप पहले से ही उनके प्रति नत...

Other posts