Donate US$10

Why does history take side with the winners of the war ?

आजकल जो  लोग यह शिकायत करते घूम रहे हैं कि इतिहास को leftist ने मरोड़ कर लिखा है और स्कूल शिक्षा में भारत के इतिहास पाठ्यक्रम में सिर्फ एकतरफा पक्ष के नज़रिए को ऊंचा करके दर्ज किया है

यह वही लोग है जिनको बच्चों पर वैसे भी स्कूली पाठ्यक्रम के load का अतापता नही है। यह लोग खुद अनपढ़, philister लोग है और बेवजह मासूम पढ़ने वाले बच्चों पर फिजूल के छिट्टपुट्ट
जानकारियों को रटते रहने का load देना है।

---_-----_------_------__-------

*Question* : Why do we know more about the intruders than our own warriors or kings.

Answer
Because those great warriors or kings or the architect kings  could not prove to be victorious as their architecture monuments could not give to the society people with enough powerful skills that could help the king win the wars.

So eventually the academics of History , which is always under pressure to trim down the contents to the "necessary" short lines , automatically takes favour with those historical figures who ruled over the society , as it is their deeds and actions which have greater mark and influence on your present than the non-challant million "small historical truths' .

No comments:

Post a Comment

Featured Post

नौकरशाही की चारित्रिक पहचान क्या होती है?

भले ही आप उन्हें सूट ,टाई और चमकते बूटों  में देख कर चंकचौध हो जाते हो, और उनकी प्रवेश परीक्षा की कठिनता के चलते आप पहले से ही उनके प्रति नत...

Other posts