Donate US$10

जीवन मे अन्वेषण का महत्व ....भाग 2

हालांकि कई सारे खोजकर्ता ऐसे भी रहे हैं जिनकी thoery को उनके जीवनकाल में दुनिया ने कभी भी स्वीकार नही किया, अपितु उनके गुज़र जाने के सेकड़ो सालों बाद दुनिया को उनकी महान खोज में सत्य के दर्शन हुए। ऐसे खोजकर्ता अपने जीवन में तो ट्रासाडियों से मुक्त नही हो सके, बस इतिहास के पन्नो में ही उन्हें स्मरण किया गया है। वैज्ञानिक क्षेत्र में बिजली (विद्युत) पर अन्वेषण करने वाले निकोलस टेस्ला का वाक्या इसका उदाहरण है। उस काल मे विद्युत के इतने सर्वभु उपयोग का आंकलन किसी ने नही किया था, और इसलिए उनके अन्वेषण पर इतना ध्यान नही दिया गया। edison के बल्ब बना देने के बाद ही दुनिया को टेस्ला के विद्युत के अपर उपयोग दिखाई पड़े थे। एडिसन के बल्ब ने आरम्भ में दुनिया मे धूम मचाई थी। टेस्ला के खोज को दुनिया बहोत बाद में आकर्षित हुई और उपयोग समझ सकी।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

नौकरशाही की चारित्रिक पहचान क्या होती है?

भले ही आप उन्हें सूट ,टाई और चमकते बूटों  में देख कर चंकचौध हो जाते हो, और उनकी प्रवेश परीक्षा की कठिनता के चलते आप पहले से ही उनके प्रति नत...

Other posts